ALL देश दुनिया राज्य तरकश धर्म-ज्योतिष स्वास्थ्य
गंगा बंदी, रेल बंदी व आर्थिक मंदी की तिगड़ी से बाज़ारों में सन्नाटा, व्यापारी मायूस
October 18, 2019 • संवाददाता

 

त्यौहारी सीजन से उम्मीद लगाए बैठे व्यापारी निराश, बाज़ारों से रौनक गायब

हरिद्वार।। वैसे तो त्यौहारी सीजन का व्यापारियों को पूरे साल इंतज़ार रहता है लेकिन इस बार हरिद्वार के व्यापारी चौतरफा मार झेल रहे हैं, जिस कारण बाजारों से रौनक गायब है।

ज्ञातव्य हो की हर साल त्यौहारों के मौसम में दशहरे से दिवाली के बीच यूपी सिचांई विभाग द्वारा गंगा बंदी की जाती है। हरिद्वार के धर्म जगत के साथ ही व्यापारी वर्ग इस बंदी का विरोध करता रहा है। लेकिन इस साल कुछ ऐसा संजोग है की हरिद्वार का व्यापार चौपट हो गया है।

दरअसल यहां के व्यापारियों पर इस बार तिहरी मार पड़ी है। जहां एक तरफ गंगा बंदी से यात्री यहां नही आ रहे हैं वही रेलवे लाइन के चौड़ीकरण के कारण यहां आने वाली अधिकांश ट्रेने रद्द हैं, जिस कारण धर्मनगरी पहुंचने में भी यात्रियों को खासी परेशानी हो रही है। वही, देश में पिछले कई महीनों से फैली आर्थिक मंदी भी हरिद्वार के व्यापारियों पर कहर बरपा रही है। गंगा बंदी, रेल बंदी और आर्थिक मंदी ने व्यापारियों का सारा गणित गड़बड़ा दिया है। 

होटल एसोसिएशन के विभाष मिश्रा ने बताया की जिन यात्रियों ने होटल में एडवांस बुकिंग कराई थी उन सबने ट्रेन बंदी के कारण बुकिंग रद्द करा दी है। एक तो वैसे ही बाजार में मंदी है ऊपर से ट्रेन और गंगा बंदी ने व्यापार चौपट कर दिया है। इस बार व्यापारियों की काली दिवाली बनेगी।