ALL देश दुनिया राज्य तरकश धर्म-ज्योतिष स्वास्थ्य
सरकार गंगा जल की सफाई नही, उससे कमाई कर रही है : जलपुरुष
October 11, 2019 • चंदमोहन सजवाण

हरिद्वार।। पिछले वर्ष गंगा रक्षा के लिए अनशन करते हुए अपने प्राणों की आहुति देने वाले गंगा पुत्र ज्ञानस्वरूप सानंद जी की पहली पुण्यतिथि के अवसर पर भारत जागृति मिशन ने हरिद्वार स्थित पवन धाम में एक गोष्टी का आयोजन किया। इसकी अध्यक्षता करते हुए पावन धाम के परमाध्यक्ष स्वामी सहज प्रकाश जी ने कहा कि सानंद जी का जीवन माँ गंगा के लिए समर्पित रहा और अपने प्राण भी उन्होंने माँ गंगा की स्वच्छ्ता के लिए त्याग दिए, ऐसे विरले महापुरुष संसार में कभी कभी अवतरित होते हैं। उन्होंने कहा कि हम सब माँ गंगा की सेवा में सानंद जी द्वारा दिखाए मार्ग पर चले,यही उन्हें सच्ची श्रद्धांजलि होगी।

जलपुरुष राजेन्द्र सिंह सानंद जी के साथ बिताए अंतिम क्षणों को याद कर भावुक हो गए। उन्होंने कहा कि स्वामी जी को भाजपा सरकार से गंगा जी के लिए काम करने की बहुत आशा थी लेकिन जब उन्होंने देख लिया कि सरकार असंवेदनशील है तो उन्हें बहुत कष्ट हुआ और उन्होंने अपने प्राण त्याग दिए। उन्होंने कहा कि की स्वामी ज्ञानस्वरूप जी भले ही सशरीर हमारे साथ ना हों किन्तु वो हमेशा दिव्य शक्ति से हमारा मार्गदर्शन करते रहेंगे।

गोष्टी में तेलगु फ़िल्म अभिनेता पवन कल्याण भी उपस्थित थे। उन्होंने कहा कि गंगा पूरे देश की माँ हैं। जिस दिन स्वामी जी के देह त्यागने का समाचार मिला उसदिन ऐसा लगा कि मेरे जीवन से कुछ अहम हिस्सा चला गया है। श्री पवन ने कहा कि बहुत आश्चर्य की बात है कि माँ गंगा के लिए स्वामी जी ने अनशन किया और प्राण त्याग दिए लेकिन देश में कोई प्रतिक्रिया नही हुई। ये दर्शाता है कि भारत के लोग अपनी आत्मा खो चुके हैं।

उन्होंने कहा कि की उनका बलिदान व्यर्थ नही जाएगा। उनकी दिव्य आत्मा हम सब से गंगा सेवा कराएगी।
गोष्टी के आयोजक और भारत जागृति मिशन के अध्यक्ष अंशुल श्री कुंज ने कहा देश भर में स्वामी सानन्द जी के संकल्प का प्रचार किया जाएगा और एक बड़ा आंदोलन चलाकर सरकार को मजबूर करेंगे की वो ज्ञानस्वरूप जी के मांग पत्र को लागू करे।

उन्होंने सभी उपस्थितों को गंगा रक्षा का संकल्प भी दिलाया।
इस अवसर पर "गंगा की अविरलता की मांग पूरी नही हुई" नामक पुस्तक का विमोचन भी किया गया।
कार्यक्रम में अंशुल श्री कुंज, विभाष मिश्रा, प्रो विक्रम सोनी, सत्यनारायण, सुमित तिवारी, चंद्रमोहन सजवाण, ओ पी चौहान, अशरफ अब्बासी, सुभाष कपिल, बसवराज पाटिल, सुरेश शर्मा, अनुज ब्रह्मचारी आदि उपस्थित थे।